तुज सगुण ह्मणों कीं | Tuj Sagun Mhano Ki Marathi Lyrics

तुज सगुण ह्मणों कीं | Tuj Sagun Mhano Ki Marathi Lyrics

रचना  – संत ज्ञानेश्वर
संगीत – सुधीर फडके
स्वर – सुधीर फडके


तुज सगुण ह्मणों कीं निर्गुण रे
सगुण-निर्गुण एकु गोविंदु रे ॥१

अनुमाने ना अनुमाने ना
श्रुति ‘नेति नेति’ ह्मणती गोविंदु रे ॥२

तुज स्थूळ ह्मणों कीं सूक्ष्म रे
स्थूळसूक्ष्म एकु गोविंदु रे ॥३

तुज आकारु ह्मणों कीं निराकारू रे
आकारुनिराकारु एकु गोविंदु रे ॥४

तुज दृश्य ह्मणों कीं अदृश्य रे
दृश्यअदृश्य एकु गोविंदु रे ॥५

तुज व्यक्त ह्मणों कीं अव्यक्तु रे
व्यक्तअव्यक्त एकु गोविंदु रे ॥६

निवृत्ती प्रसादें ज्ञानदेवो बोले
बाप रखुमादेविवरू विठ्ठलु रे ॥७

Leave a Comment